भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से सुधरी राजस्थान की सेहत, नवंबर में रिकॉर्ड राशि के क्लेम हुए बुक

0
1531

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की पहल पर प्रदेशवासियों को गुणवत्तायुक्त स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रस्तावित महत्वाकांक्षी स्वास्थ्य बीमा योजना सम्पूर्ण राज्य में सरकार से दो साल पूरे के उपलक्ष पर 13 दिसम्बर 2015 से भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना शुरु की गई। योजना के अन्तर्गत नवंबर महिने में रिकॉर्ड राशि के क्लेम बुक हुए हैं। इस महिने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में सर्वाधिक 39 करोड़ 35 लाख रुपयों के क्लेम बुक हो चुके हैं।

राज्य सरकार की इस योजना से लाभार्थी को कैशलेस सुविधायें सुलभ होंगी। प्रत्येक परिवार को प्रतिवर्ष सामान्य बीमारियों के लिए 30 हजार रुपये का बीमा व चिन्हित गंभीर बीमारियों हेतु 3 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा मिल रहा हैं। प्रतिवर्ष लगभग 400 करोड़ रूपये व्यय कर एक करोड़ परिवारों को 3 लाख करोड़ रूपये का बीमा कवर उपलब्ध कराया जा रहा हैं। सामान्य बीमारियों के 1 हजार 45 पैकेज व क्रिटिकल बीमारियों के 500 पैकेज तैयार करने के साथ ही राजकीय अस्पतालों के लिए आरक्षित 173 पैकेज निर्धारित किये गये हैं।

310 करोड़ के क्लेम दिए अब तक

प्रदेश में संचालित भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत नवंबर माह में रिकॉर्ड करीब 40 करोड रुपए के क्लेम बुक हुए हैं। योजना के तहत अब तक 310 करोड 88 लाख रुपए के 6 लाख 31 हजार 225 मरीजों को लाभांवित किया जा चुका हैं।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत प्रदेश के समस्त भामाशाह कार्डधारी, प्रदेश के राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में आने वाले परिवार एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना में आने वाले परिवार लाभान्वित होंगे। योजना के लाभ राज्य के समस्त मेडिकल कॉलेज अस्पतालों, जिला अस्पतालों, सेटेलाइट अस्पतालों, सब डिविजनल अस्पतालों तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर उपलब्ध करवाए जा रहे हैं।

यह योजना सरकारी तथा प्राइवेट अस्पतालों में एक साथ लागू की गई । इसके लिए प्राइवेट अस्पतालों का पैनल तैयार किया गया। राज्य सरकार ने इसके लिए न्यू इंडिया एश्योरेंस कम्पनी के साथ सहमति पत्र हस्ताक्षरित किया है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने स्वास्थ्य बीमा योजना के पात्र लोगों की पहचान के लिए भामाशाह कार्ड, आधार कार्ड या राशन कार्ड को आवश्यक बनाया हैं।

सफलता की कहानी

प्रतापगढ़ के तलाई मौहल्ला निवासी कैलाश चन्द्र की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और 45 साल की उम्र में भी वह ठेले में फल बेचकर गुजर-बसर करता है। उसे आंखों से देखने में तकलीफ हुई और आंखों की जांच में उसकी दाहिनी आंख में झिल्ली से जुड़ी टेरिजियम बीमारी होने से उसे रोजी-रोटी का संकट खड़ा हुआ। चिकित्सक ने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत् कैलाश को पूरा निशुल्क उपचार मिलने की जानकारी दी तो उसे बहुत मानसिक ढ़ांढ़स मिला।

योजना बनी ‘दिव्यांग’ मनीराम के लिए वरदान

राज्य सरकार की अतिमहत्वकांक्षी जनकल्याणकारी भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना का सकारात्मक परिणाम अब सामने आने लगे हैं। योजना से अनेक अभावग्रस्त और जरूरतमंद लोगों का इलाज बिना किसी जेब खर्च के यानी केशलेस हो रहा है। ऐसे ही गंगानगर निवासी एक ह्दृय रोगी का निःशुल्क इलाज हुआ है, जो अब ठीक है। गंगानगर के वार्ड नम्बर 43 निवासी मनीराम वर्मा भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से लाभान्वित हुए हैं। 60 वर्षीय मनीराम वर्मा दिव्यांग (विकलांग) हैं।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के अन्र्तगत किसनाराम के हुआ निशुल्क एओरटिक वाल्व प्रत्यारोपण

राज्य सरकार की लोकहित कल्याणकारी भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से अनेक अभावग्रस्त और जरूरतमंद लोगो का इलाज बिना किसी खर्च के जीरो जेबखर्च पर बिल्कुल कैशलेस हो रहा है। नागौर के मकौडी गांव के किसनाराम भी इस योजना से लाभान्वित हुए एक मरीज है। 64 वर्षीय किसनाराम के पिछले कुछ समय से छाती में दर्द की शिकायत थी। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतर्गत राष्ट्रीय खाध सुरक्षा अधिनियम या पूर्व में चलाई गई राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभार्थी को इस योजना के अन्तर्गत सभी इलाज कैशलेस मिलेगा। किसनाराम अपने सभी जरूरी दस्तावेज लेकर हल्दीराम मूलचंद कार्डियोलाॅजी सेंटर पर मरीजो की सुविधा के लिये लगा रखें स्वास्थ्य मार्गदर्शक के पास गया जहां सारे दस्तावेजो को देखने के बाद पता लगा कि वह भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना का पात्र है और उस योजना के तहत उसके इलाज पर लगले वाले एक लाख, पांच हजार रूपयें राज्य सरकार की और से किए गए करार के मुताबिक दि न्यू इंडिया इनश्योरेंस कंपनी लिमिटेड द्वारा वहन किया गया।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतरगर्त नारायण का हुआ सफल ऑपरेशन

रुपयों की कमी के चलते इलाज को मोहताज केसरीलाल पिता नारायण उम्र 61 वर्ष निवासी कटावर काफी दिनों से हरनीया रोग से पीड़ित थे। जैसे ही उन्होने प्रचार-प्रसार के माध्यम से राजस्थान सरकार की जनजन को लाभ पहॅुचाने वाली भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के बारे में सुना तो तुरन्त प्रभाव से 14 दिसम्बर 2015 को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र खानपुर में डॉ. आर.के.सोनी सर्जन को दिखवाया। रोगी से राशन कार्ड व भामाशाह कार्ड लेकर भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीयन करवाकर रोगी को सीएचसी पर एडमिट किया। रोगी केसरीलाल की सभी जॉचे करवाने के पश्चात् डॉ. सोनी द्वारा 14.12.15 को सफल आॅपरेशन किया गया। दिनांक 17.12.15 को रोगी को चिकित्सालय से छुट्टी दी गई।

 

RESPONSES

Please enter your comment!
Please enter your name here