मैं सियासत नहीं समझता, पर ऐसी कुर्सियों से डरता हूं, जिन पर बैठने से पांव जमीन पर नहीं टिकते : गुलजार

0
797

RESPONSES

Please enter your comment!
Please enter your name here